Advance Surgical Laproscopic Stone & Maternity Centre

Advance Surgical Laproscopic Stone & Maternity Centre

Comments

😮
PROCHAIN FOIS OU JE SERAIS EN INDE DANS TROIS MOIS JE VISITERAIS LE LIEU
Mubarak ho beta.mai Deoria mai hu.send mobile no.

Its a center of par excellence for both poor and middle class people. Treatment here is cheap and affordable. Here almost all facilities are available.

Hospital for Surgery, Infertility,

Operating as usual


07/02/2021

Dr. Priyanka Dubey

25/08/2020

थायराइड: लक्षण, कारण, उपचार इत्यादि

थायराइड (Thyroid) वर्तमान समय की आम समस्या है, जो अधिकांश लोगों में देखने को मिल रही है।

डाउन टू अर्थ की रिपोर्ट के अनुसार भारत में 40 मिलियन लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं, जिसमें हाइपोथायरायडिज्म (hypothyroidism) से 10 में से 1 व्यक्ति पीड़ित है।

ये आकंडे थायराइट की भयावह स्थिति को बयां करने के लिए काफी हैं।
मानवशरीर में थायराइड ग्रंथि तितली के आकार की होती है, जो गले के सामने वाले हिस्से पर स्थिति होती है, जो खून में हार्मोन का निर्माण, स्टोर एवं निकालती करती है ताकि वह हार्मोन शरीर की कोशिकाओं तक पहुंच जा सके।

लेकिन जब यह ग्रंथि अपने इस काम को सही से नहीं कर पाती है, तो उस स्थिति को थायराइट की बीमारी कहा जाता है।
इसके बावजूद यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि अधिकांश लोगों को इसकी पूर्ण जानकारी नहीं है। इसी कारण वे आसानी से इसके शिकार बन जाते हैं।
तो आइए, इस प्रस्तुत लेख के माध्यम से इस गले की समस्या की जानकारी पाने की कोशिश करते हैं, ताकि लोग इसके प्रति सर्तक रह सकें और इसका इलाज सही तरीके से करा सकें।

थायराइट से तात्पर्य ऐसी स्थिति से है, जिसमें थायराइट ग्रंथि पर्याप्त मात्रा में हार्मोन का निर्माण नहीं कर पाता है।
इसकी वजह से व्यक्ति की शारीरिक क्षमता काफी कम हो जाती है और यह अन्य स्वास्थ परेशानियों का कारण भी बन जाता है।

थायराइड कितने प्रकार का होता है?

थायराइड मुख्य रूप से 4 प्रकार का होता है, जो निम्नलिखित हैं-

हाइपोथायरायडिज्म थायराइड- यह थायराइड का प्रमुख कारण है, जो थायराइट ग्रंथि में थायराइड हॉर्मोन की कमी के कारण होता है।
हाइपोथायरायडिज्म थायराइड मुख्य रूप से छोटे बच्चों में देखने को मिलता है, जिसका इलाज दवाईयों के माध्यम से संभव है।

हाइपरथाइरॉयडिज़्म थायराइड- यह अन्य थायराइड है, जो थायराइड ग्रंथि में अतिरिक्त टिशू के निर्माण होने के कारण होता है।
हाइपरथाइरॉयडिज़्म थायराइड में हार्मोन की अधिकता हो जाती है।

गोइटर थायराइड- इसे आम भाषा में घेंघा रोग कहा जाता है, जो मुख्य रूप से शरीर में आयोडीन की कमी के कारण होता है।
गोइटर से पीड़ित व्यक्ति को डॉक्टर आयोडीन की दवाई देते हैं, जिसकी वजह से आयोडीन की मात्रा सामान्य हो जाती है।

थायराइड कैंसर- यह थायराइड का सबसे गंभीर और अंतिम प्रकार है, जिसका इलाज केवल सर्जरी के माध्यम से ही संभव है।थायराइड कैंसर उस स्थिति में होता है, जब थायराइड ग्रंथि गांठ बन जाती है।

थायराइड के लक्षण क्या हैं?

संभवत: कुछ लोगों को यह याद न हो कि उन्हें थायराइड कब हुआ, लेकिन यदि वे इसके लक्षणों पर ध्यान देते, तो शायद वे समय रहते इसका इलाज शुरू करा पातें।

अत: यदि किसी व्यक्ति को ये लक्षण नज़र आते हैं, तो इसे सर्तक हो जाना चाहिए क्योंकि यह गले की समस्या का संकेत हो सकते हैं-

वजन का बढ़ना या कम होना- यह थायराइड का प्रमुख लक्षण है, जिसमें व्यक्ति के वचन में अचानक से तब्दीली आ जाती है।

इस गले की बीमारी में कुछ लोगों का वजन बढ़ जाता है तो वहीं कुछ लोगों का वजन कम हो जाता है।

गले में सूजन का होना- अक्सर, ऐसा देखा गया है कि थायराइड होने पर कुछ लोगों के गले में सूजन हो जाती है।

ऐसा मुख्य रूप से घेंघा रोग का लक्षण हो सकता है और स्थिति में मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ती है।

ह्रदय गति में बदलाव होना- यदि किसी व्यक्ति की ह्रदय गति में बदलाव हो जाता है और वह सामान्य से तेज़ चलने लगती है, तो उसे इसकी जांच जरूर करानी चाहिए।

ह्रदय गति में बदलाव थायराइड के होने का संकेत हो सकता है।

मूड स्विंग का होना- थायराइड का अन्य लक्षण मूड स्विंग भी होता है।
ऐसा देखा गया है कि इससे पीड़ित लोग कभी खुश तो कभी दुखी हो जाते हैं।

बालों का झड़ना- ऐसा मुख्य रूप से थायराइड होने पर महिलाओं के बाल तेज़ी से झड़ने लगते हैं।

हालांकि, इनका इलाज हेयर ट्रांस्पलांट के द्वारा किया जा सकता है।

थायराइड के कारण क्या हैं?

क्या आपने कभी यह सोचा है कि आखिरकार यह गले की बीमारी किस वजह से होती है? नहीं, शायद इसी कारण लोग इससे अपनी रक्षा नहीं कर पाते हैं।

हमारी दिनचर्या में ऐसे बहुत सारे तत्व होते हैं, जिनकी वजह से थायराइड हो सकता है, इनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

शरीर में आयोडीन की कमी का होना- थायराइड की समस्या मुख्य रूप से शरीर में आयोडीन (Iodine) की कमी के कारण होती है।
अत: सभी लोगों को अपने भोजन में ऐसे नमक का सेवन करना चाहिए, जो आयोडीन से भरपूर हो।

बच्चे को जन्म देना- कई बार ऐसा देखा गया है कि थायराइड उन महिलाओं को भी हो जाता है, जिन्होंने हाल ही में बच्चे को जन्म दिया हो।
हालांकि, यह समस्या कुछ समय के बाद स्वयं ही ठीक हो जाती है, लेकिन यदि थायराइड लंबे समय बनता हो, तो उस स्थिति में उस महिला को अपना सही से इलाज कराना चाहिए।

अत्याधिक तनाव लेना- थायराइड उन लोगों में होने की संभावना अधिक रहती है, जो अत्याधिक तनाव लेते हैं।
इसी कारण सभी लोगों को तनाव प्रबंधन करने की कोशिश करनी चाहिए।

उच्च रक्तचाप का होना- यदि किसी व्यक्ति को उच्च रक्तचाप या हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है, तो उसे थायराइड होने की संभावना अधिक रहती है।
ऐसे व्यक्ति को अपने रक्तचाप का इलाज सही तरीके से कराना चाहिए ताकि उसे स्वास्थ संबंधी अन्य समस्या न हो।

मधुमेह (डायबिटीज) का होना- अक्सर, थायराइड मधुमेह के कारण भी हो जाता है।
अत: इससे पीड़ित व्यक्ति को अपने डायबिटीज को नियंत्रित करने की कोशिश करनी चाहिए।

थायराइड का इलाज कैसे करें?
यह सवाल हर उस शख्स के लिए मायने रखता है, जो इस गले की बीमारी से पीड़ित होता है।
चूंकि, उसे इस बीमारी के होने पर बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, इसी कारण वह हर समय इससे निजात पाने की कोशिश करता है।
यदि कोई व्यक्ति इस गले की बीमारी से पीड़ित है तो वह इन 5 तरीकों से थायराइड का इलाज करा सकता है-

दवाई लेना- थायराइड का इलाज करने का सबसे आसान तरीका दवाई लेना है।
ये दवाईयां थायराइड को नियंत्रित रखने अथवा उसे जड़ से खत्म करने में सहायक होती हैं।
अत: थायराइड से पीड़ित व्यक्ति दवाई के माध्यम से भी इसका इलाज करा सकता है।

गले की जांच करना- चूंकि, थायराइड गले की एक बीमारी है इसलिए डॉक्टर इसका इलाज करने के लिए व्यक्ति के गले की जांच करते हैं।
वे इसके द्वारा यह पता लगाने की कोशिश करते हैं कि शरीर में थायराइड किस स्तर तक बढ़ गया है।

ब्लड टेस्ट कराना- कई बार, इस गले की बीमारी का इलाज ब्लड टेस्ट के द्वारा भी किया जाता है।
इस टेस्ट के माध्यम से थायराइड की गति को कम करने की कोशिश की जाती है।

सर्जरी को कराना- जब इस गले की बीमारी में किसी भी अन्य तरीके से आराम नहीं मिलता है, तब डॉक्टर सर्जरी का सहारा लेते हैं।ऐसी स्थिति में थयरॉइडेक्टोमी (Thyroidectomy) सर्जरी के माध्यम से थायराइड का इलाज किया जाता है।
इस सर्जरी में थायराइड ग्रंथि को सर्जिकल तरीके से निकाला जाता है।

थयरॉइडेक्टमी सर्जरी की कीमत क्या है?

जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि थायराइड के इलाज का सर्वोत्तम तरीका थयरॉइडेक्टमी (Thyriodectomy) सर्जरी है।

लेकिन, जब कोई डॉक्टर किसी व्यक्ति को इस सर्जरी को कराने की सलाह देते हैं, तो उस समय उसकी मन में यह सवाल सबसे पहले आता है कि थयरॉइडेक्टोमी सर्जरी की कीमत क्या है।

उसके लिए इसका उत्तर काफी मायने रखता है क्योंकि इसका असर उसकी आर्थिक स्थिरता पर पड़ता है।

संभवत: अधिकांश लोग इसे एक महंगी प्रक्रिया समझते हो और इसी कारण वे इसे न करा पाएं। लेकिन यदि उन्हें यह पता हो कि एक किफायती प्रक्रिया है, जिसकी औसतन लागत मात्र 80 हजार से 1 लाख होती है तो शायद वे इस गले की बीमारी से निजात पा सकते।

थयरॉइडेक्टोमी सर्जरी के जोखिम क्या हो सकते हैं?

निश्चित रूप से, थयरॉइडेक्टोमी सर्जरी काफी लाभकारी प्रक्रिया है, जिसकी सहायता से थायराइड की बीमारी को जड़ से समाप्त किया जा सकता है, लेकिन किसी भी अन्य सर्जरी की भांति थयरॉइडेक्टोमी सर्जरी के भी जोखिम होते हैं, जिसकी जानकारी उस व्यक्ति को होनी चाहिए, जो थायराइड से पीड़ित है।

यदि किसी व्यक्ति ने हाल ही में थयरॉइडेक्टोमी सर्जरी कराई है, तो निम्नलिखित जोखिमों का सामना करना पड़ सकता है-

गले में रक्तस्राव का होना- यह थायराइड की सर्जरी का प्रमुख जोखिम है, जिसमें व्यक्ति के गले में रक्तस्राव (Bleeding) होता है।हालांकि, यह समस्या कुछ समय के बाद ठीक हो जाती है, लेकिन यदि लंबे समय तक रहती है तो उस स्थिति में मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ सकती है।

संक्रमण का होना- कई बार, इस सर्जरी की वजह से कुछ लोगों को संक्रमण भी हो सकता है।
हालांकि, इस स्थिति में एंटी बायोटिक दवाई ली जा सकती है।

आवाज़ में बदलाव का होना- चूंकि, थायराइड सर्जरी को थायराइड ग्रंथि पर किया जाता है।
इस कारण इस सर्जरी का इस ग्रंथि पर प्रभाव पड़ता है और व्यक्ति की आवाज़ में थोड़ा बदलाव हो जाता है।

सांस लेने में तकलीफ होना- थायराइड सर्जरी का असर कई बार व्यक्ति की स्वास नली पर भी पड़ता है।
अत: व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होती है और इसमें मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ती है।

मांसपेशियों में ऐंठन का होना- यदि किसी व्यक्ति ने थायराइट सर्जरी को कराया है, तो इस वजह से व्यक्ति की मांसपेशियों पर बुरा असर पड़ता है।
इसकी वजह से मांसपेशियों में ऐंठन भी हो सकता है और इसके लिए फेजियोथेरेपी लेने की जरूरत पड़ सकती है।

थायराइड की रोकथाम कैसे करें?

आपको यह जानकर खुशी होगी कि यदि कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो थायराइड की रोकथाम की जा सकती है।
हो सकता है कि आपको इस बात पर विश्वास न हो क्योंकि अधिकांश लोग इस ओर ध्यान ही नहीं देते हैं कि वे थायराइड से कैसे बच सकते हैं।

यदि कोई व्यक्ति इन 5 उपायों को अपनाए, तो वह थायराइड की रोकथाम कर सकता है-

हेल्दी डाइट को अपनाना- कुछ लोगों को थायराइड खराब भोजन करने की वजह से भी हो सकता है।
अत: सभी लोगों को अपने भोजन का विशेष ध्यान रखना चाहिए और उसे हेल्दी डाइड को अपनाना चाहिए।

डिबाबंद भोजन से परहेज रखना- हालांकि, आज के दौर में डिबाबंद भोजन काफी प्रचलन में है और अधिकांश लोग भी ऐसे भोजन का सेवन करते हैं, लेकिन डिबाबंद भोजन का सेहत पर बुरा असर पड़ता है।
इसी कारण हर शख्स को यह कोशिश करनी चाहिए कि जितना हो सके उतना ऐसे भोजन से दूर रहे।

एंटी बायोटिक दवाईयों का सेवन करना- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि थायराइड संक्रमण के कारण भी होता है।
अत: सभी लोगों को संक्रमण से बचने की कोशिश करनी चाहिए और इसके लिए वे एंटी बायोटिक दवाईयों का सेवन कर सकते हैं।

व्यायाम करना- किसी भी व्यक्ति के लिए व्यायाम करना लाभदायक साबित हो सकता है।
यह उसे सेहतमंद रहने और रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में उपयोगी साबित हो सकता है।

थायराइड की जांच करना- अंत: सभी लोगों के लिए यह बात सबसे जरूरी है कि वे अपने स्वास्थ की अच्छी तरह से जांच कराएं, ताकि उन्हें इस बात का पता लग सके कि वे पूरी तरह से स्वस्थ हैं।
यदि अपने स्वास्थ की जांच करने पर किसी व्यक्ति में थायराइड की पुष्टि होती है तो उसे इसका इलाज तुंरत ही शुरू कराना चाहिए।

जैसा कि हम सभी यह जानते हैं कि वर्तमान समय में थायराइड (Thyroid) की बीमारी काफी आम समस्या बन गई है।
इस गले की बीमारी से अधिकांश लोग पीड़ित हैं और वे कई सालों तक दवाईयों का सेवन ही करते हैं, इसके बावजूद उन्हें गले की बीमारी से निजात नहीं मिल पाती है।
इससे एक बात स्पष्ट होती है कि लोगों को थायराइड को ठीक करने के लिए सही मार्गदर्शन की आवश्यकता है।
इस प्रकार हमें उम्मीद है कि आपके लिए इस लेख को पढ़ना उपयोगी साबित हुआ होगा क्योंकि हमने इसमें थायराइड की आवश्यक जानकारी देने की कोशिश की है।
यदि आप या आपकी जान-पहचान में कोई व्यक्ति स्वास्थ संबंधी किसी समस्या और उसके उपचार के संभावित तरीकों की अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह इसके लिए 8002784928...or..7978086302 पर Call करके उसकी मुफ्त सलाह प्राप्त कर सकता है।

सबसे अधिक पूछे जाने वाले सवाल (FAQ’S)

Q1. महिलाओं में थायराइड होने के लक्षण क्या हैं?
Ans- महिलाओं में थायराइड होने के लक्षणों में कमज़ोरी महसूस होना, वजन का बढ़ना, सर्दी लगना, मांसपेशियों और जोड़ों में कमज़ोरी महसूस होना, बालों का झड़ना, डिप्रेशट महसूस करना इत्यादि शामिल हैं।

Q2. क्या थायराइड एक गंभीर समस्या है?

Ans- जी हां, थायराइड काफी गंभीर समस्या है, क्योंकि यह आगे चलकर कैंसर का रूप में ले सकती है।
इसकी वजह से काफी सारे लोगों को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ सकता है।

Q3. थायराइड का शरीर पर क्या असर पड़ता है?

Ans- थायराइड का सीधा असर मैटाबॉलिज़्म (metabolism) पर पड़ता है, जिसका मुख्य काम शरीर को क्रियाशील रखना है।
थाराइड की स्थिति में यह कम हो जाता है और इस बीमारी से पीड़ित कमज़ोर महसूस करता है, जिससे उसकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता पर भी असर पड़ता है।

Q4. क्या थायराइड का इलाज संभव है?

Ans- जी हां, किसी भी अन्य बीमारी की तरह थायराइड का भी इलाज संभव है।
इसके लिए दवाई, सर्जरी इत्यादि तरीके को अपनाया जा सकता है।

Q5. थायराइड होने पर केला खाना लाभकारी होता है?

Ans-थायराइड होने पर केला खाना लाभकारी होता है क्योंकि इससे इस बीमारी में आराम मिलता है।

Q6. थायराइड होने पर किस तरह का भोजन नहीं करना चाहिए?

Ans- थायराइड होने पर ब्रसेल्स स्प्राउट्स, गोभी, फूलगोभी, केल, शलजम और बॉक चोय इत्यादि भोजन नहीं करना चाहिए।

Q7. थायराइड से बचाव कैसे किया जा सकता है?

Ans- थायराइड से बचाव काफी आसान है, जिसे हेल्थी डाइट में बदलाव करके, योगा या एक्सराइज़ करके, समय पर हेल्थचेकअप कराके इत्यादि तरीके को अपनाकर संभव है।

19/08/2020

कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) - उपचार, प्रक्रिया और साइड इफेक्ट्स

कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) का उपचार क्या है?

कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) एक परीक्षण है जो आपके डॉक्टर द्वारा बड़ी आंत की आंतरिक अस्तर (inner lining) की निगरानी और जांच करने के लिए किया जाता है; गुदाशय और कोलन (re**um and the colon)। कोलोनोस्कोप (colonoscope) एक लंबी और लचीली ट्यूब (long and flexible tube) है, जिसका टिप (tip) गुदा में डाला जाता है और धीरे-धीरे उन्नत होता है, आपके गुदा (a**s) में और कोलन (colon) के पहले भाग के माध्यम से।

एक आभासी कॉलोनोस्कोपी (virtual colonoscopy) एक्स-रे परीक्षण (X-ray test) की तरह है, जिसे कॉलोनोस्कोप (colonoscope) के सम्मिलन (insertion) की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, यह सभी प्रकार के पॉलीप्स (polyps) का पता लगाने में प्रभावी नहीं है। कॉलोनोस्कोप (colonoscope) के साथ एक कॉलोनोस्कोपी (colonoscopy ) कॉलन (colon) की विस्तार से जांच करने के लिए एक बेहतर विकल्प है।

एक कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) अल्सर, ट्यूमर, कोलन पॉलीप्स (ulcers, tumours, colon polyps) या सूजन और रक्तस्राव (inflammation and bleeding) से प्रभावित किसी भी क्षेत्र को खोजने में मदद कर सकती है। इसे सटीक विकास, गुदाशय या कोलन में कैंसर (precancerous growth, cancer in the re**um or the colon) की जांच के लिए स्क्रीनिंग परीक्षण (screening test) के रूप में भी किया जा सकता है। एक कॉलोनोस्कोपी (colonoscopy) के दौरान, असामान्य वृद्धि (abnormal growths) का पता लगाने के लिए आपके ऊतक (tissue) नमूने की जांच की जाएगी।

आपके मल, पुरानी दस्त, अचानक वजन घटाने, एनीमिया, लंबे समय तक पेट में अस्पष्ट दर्द (stool, chronic diarrhea, sudden weight loss, anaemia, unexplained pain in the stomach) या सूजन आंत्र रोग (inflammatory bowel disease) के इलाज के लिए कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) भी की जा सकती है।

परीक्षण से पहले कोलन को साफ करना अनिवार्य है। परीक्षण से दो दिन पहले, आपको ठोस भोजन (solid food) का सेवन करना बंद करना होगा और अपने आंत्र को साफ करने के लिए केवल तरल पदार्थ (fluids) पीना होगा।

कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) का इलाज कैसे किया जाता है?

एक कोलोनोस्कोपी (colonoscopy) एक प्रशिक्षित विशेषज्ञ (trained specialist) द्वारा या तो बाह्य रोगी केंद्र (outpatient centre) में या अस्पताल में किया जाता है। वह पहले आपकी बांह की नस (vein of your arm) में एक चतुर्थ सुई (IV needle) इंजेक्ट करेगा। सेवेटिव्स, दर्दनाशक या संज्ञाहरण (Sedatives, painkillers or anesthesia) उस चतुर्थ चैनल (IV channel) के माध्यम से दिया जाता है, जिससे आप परीक्षण के दौरान आराम कर सकते हैं। आपके महत्वपूर्ण आंकड़ों की निगरानी (monitored) कर्मचारियों द्वारा की जाएगी।

आपको टेबल पर झूठ बोलना होगा और डॉक्टर गुदा (a**s) में कॉलोनोस्कोप (colonoscope) डालेगा और इसे गुदाशय और कोलन (re**um and the colon) के माध्यम से सावधानी से मार्गदर्शन (guide) करेगा। दायरे बड़े आंत के अंदर हवा पंप (pump air) करेगा जिससे चिकित्सक बेहतर दृश्य प्राप्त कर सके। इस प्रक्रिया के दौरान, आप पेट की ऐंठन या शौचालय (abdominal cramps or the urge) जाने के आग्रह का अनुभव कर सकते हैं। संलग्न कैमरा (attached camera) मॉनिटर (monitor) को आपके आंतों के अस्तर (intestinal lining) की वीडियो छवि (video image) भेजता है, जहां डॉक्टर आंतों के ऊतकों (intestinal tissues) को देख और देख सकता है। आपको कई बार स्थानांतरित (move) करना पड़ सकता है ताकि दायरे को बेहतर दृश्य के लिए समायोजित (adjusted) किया जा सके।

यदि डॉक्टर स्क्रीनिंग (screening) के दौरान किसी भी पॉलीप्स (polyps) में आता है, तो वह उन्हें हटा सकता है और फिर बायोप्सी परीक्षण (biopsy testing) के लिए प्रयोगशाला में भेज सकता है। पूरी परीक्षा पूरी करने में आमतौर पर लगभग 20 मिनट लग सकते हैं। आमतौर पर प्रक्रिया पूरी होने के बाद उपलब्ध होते हैं। जैसे ही शामक और एनेस्थेसिया (sedative and the anesthesia) के प्रभाव के रूप में आपका डॉक्टर इसे आपके साथ साझा करेगा।

कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) के इलाज के लिए कौन पात्र (eligible) है? (इलाज कब किया जाता है?)
निम्नलिखित स्थितियों (following conditions) के तहत एक व्यक्ति को कॉलोनोस्कोपी (colonoscopy) से गुजरने की सिफारिश की जाती है:

मल / रेक्टल रक्तस्राव (stool/rectal bleeding) में रक्त
अंधेरा और कभी-कभी काला मल (black stool)
अस्पष्ट और कठोर वजन घटाने (Unexplained and drastic weight loss)
पुरानी दस्त (Chronic diarrhea)
सूजन आंत्र रोग (inflammatory bowel disease) का इलाज
पेट में गंभीर दर्द (Chronic pain)
कोलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer) की जांच के लिए
यदि एमआरआई, सीटी स्कैन, आभासी कॉलोनोस्कोपी या मल परीक्षण (MRI, CT scan, virtual colonoscopy or a stool test) से कोई असामान्य परिणाम (abnormal results) हैं
50 वर्ष से ऊपर के लोगों के लिए नियमित परीक्षा (routine test) के रूप में
उपचार के लिए कौन पात्र (eligible) नहीं है?

हो सकता है कि आप एक कोलोनोस्कोपी परीक्षण (colonoscopy test) नहीं कर पाएंगे यदि: कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) से सात दिन पहले आप बेरियम एनीमा टेस्ट (barium e***a test) (अपनी बड़ी आंत में असामान्यताओं (abnormalities) को खोजने के लिए परीक्षण किया जाता है), क्योंकि संभावना है कि कोलन (colon) ठीक से दिखाई नहीं दे रहा है

कोलन प्रीपे (colon prep) के बाद भी कोलन (colon) में मल (stool) मौजूद है
अतीत में एक कोलन सर्जरी (colon surgery) हुई थी
आपने लाल या बैंगनी रंगीन भोजन / तरल पदार्थ (red or purple coloured food/fluids) खा लिया है
डायविटिक्युलिटिस (diverticulitis) (पाचन तंत्र (digestive tract) में संक्रमण) और गर्भवती महिलाओं (pregnant women) से पीड़ित लोगों को आम तौर पर एक कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) से गुजरने की सिफारिश नहीं की जाती है

क्या कोई भी साइड इफेक्ट्स (side effects) हैं?

एक कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) से गुजरने के साइड इफेक्ट्स (side effects) हो सकते हैं:

परीक्षण दस्त (diarrhea) का कारण बन सकता है। कुछ लोग भी क्रैम्पिंग (cramping) का अनुभव करते हैं।
परीक्षण पूरा होने के कुछ घंटों के लिए आप बहुत नींद महसूस कर सकते हैं। शामक अक्सर प्रक्रिया की याददाश्त को हटा देता है।
आप सूजन और गैस का अनुभव कर सकते हैं।

यदि कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) के दौरान एक पॉलीप (polyp) निकाला गया था, तो आपके मल (stool) में कुछ दिनों तक रक्त का निशान हो सकता है
आप 2 सप्ताह तक किसी एस्पिरिन या नॉनस्टेरॉयड एंटी-इंफ्लैमेटरी ड्रग्स (aspirin or nonsteroidal anti-inflammatory drugs) लेने में सक्षम नहीं हो सकते हैं

कुछ दुर्लभ मामलों में, दायरा आपके कोलन अस्तर (colon lining) को फाड़ सकता है या रक्तस्राव (bleeding) का कारण बन सकता है
उपचार के बाद पोस्ट-ट्रीटमेंट गाइडलाइन्स (post-treatment guidelines) क्या हैं?

एक कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) के बाद पोस्ट उपचार दिशानिर्देशों (guidelines) में निम्न शामिल होंगे:

आपको 1 या 2 घंटे के लिए अस्पताल या क्लिनिक (hospital or the clinic) में रहने की आवश्यकता हो सकती है
परीक्षण के दौरान खो गए तरल पदार्थ (fluids) के लिए पर्याप्त मात्रा में तरल (liquid) पीएं
परीक्षण के तुरंत बाद शराब (alcohol) न पीएं
यह सलाह दी जाती है कि परीक्षण के एक दिन बाद ड्राइव न करें यदि आपको sedatives दिए गए हैं
आपका डॉक्टर आपको सलाह देगा कि आप अपना सामान्य आहार (normal diet) कब खाएं और अपनी दैनिक गतिविधियों (daily activities) को फिर से शुरू करें। यदि परीक्षण के दौरान एक पॉलीप (polyp) हटा दिया गया था, तो आपको एक
निश्चित समय अवधि के लिए एक विशेष आहार (special diet) खाना पड़ सकता है।

ठीक होने में कितना समय लगता है?

परीक्षण के बाद, प्रशासित (administered) शाही (sedative) से ठीक होने के लिए आपको एक या दो घंटे के लिए क्लिनिक में रहना होगा। आप दिन के बाद से अपनी दैनिक गतिविधियों (daily activities) को फिर से शुरू करने में सक्षम हो सकते हैं। यदि आपको दस्त होता है, तो आप अतिरिक्त दो या तीन दिनों तक आराम कर सकते हैं।

भारत में इलाज की कीमत क्या है?

भारत में एक कॉलोनोस्कोपी परीक्षण (colonoscopy test) से गुजरने की कीमत रु 9525 से रु 22,225 है।

उपचार के परिणाम स्थायी (permanent) हैं?

यदि आप नियमित कॉलोनोस्कोपी (Colonoscopy) से गुजर चुके हैं और साफ आते हैं, तो आप अगले दस वर्षों के बाद चुन सकते हैं। यदि पहली परीक्षा के दौरान कुछ छोटे विकार (disorders) पाए गए थे, तो आपको पांच साल बाद परीक्षण दोहराया जाना चाहिए।

उपचार के विकल्प (alternatives) क्या हैं?

कोलोनोस्कोपी (Colonoscopy) एक परीक्षण है जो कोलन कैंसर (colon cancer) की स्क्रीनिंग के लिए किया जाता है। अन्य वैकल्पिक परीक्षणों में मल परीक्षण, सिग्मोइडोस्कोपी, और गणना टॉमोग्राफिक कॉलोनोग्राफी (stool tests, sigmoidoscopy, and computed tomographic colonography) शामिल हैं।

सुरक्षा: अधिक

साइड इफेक्ट्स: कम

टाइम्लीनस: अधिक

इससे जुड़े जोखिम: कम

ठीक होने में समय: बहुत कम

प्राइज़ रेंज: Rs. 9525 - Rs. 22,225

Endoscopy/Colonoscopy/IUI/Laproscopy

24 x 7 Health Care Provider, treatment here is cheap and affordable fulfilling the criteria to fit people from low socioeconomic strata..approach us for Laproscopic Hysterectomy, Appendix, Hernia, Stone, Infertility, Gall Stone, TURP, Lithotripsy, TURBT, etc....surgeries...

Videos (show all)

Products

SURGERY

Telephone

Address


Chakiya-Bendusar Rd.
Siwan
841226
Other Hospitals in Siwan (show all)
AMAR Hospital AMAR Hospital
Doctor Colony, Gaushala Road,
Siwan, 841227

Super specialty hospital.

Computerised Homoeo Clinic,Acupressure,Yoga & Reiki Center Computerised Homoeo Clinic,Acupressure,Yoga & Reiki Center
Beside Akhand Jyoti Eye Hospital,Hospital Road, Near Adda No.-3
Siwan, 841226

Dr.Sunil Kumar,Homoeopathy,Naturopathy,Acupressure,yoga, Herbal & Reiki Consultant

Haque Dental Clinic Haque Dental Clinic
Purana QUila Siwan
Siwan, 841226

A Multi Speciality Family Cosmetic Dental Clinic

Sri sai hospital & trauma centre Sri sai hospital & trauma centre
Pakri More Gaushala Rd. Siwan
Siwan, 841226

Sri Sai Super multSpeciality Hospital Moradabad is a Tertiary Care, Super Speciality Hospital equipped with all modern health-care facilities. We provide High Quality Trauma & Rehabilitation, Diagnostic & Preventive Services. We also provide quality care

ISMAT ENT CARE Centre ISMAT ENT CARE Centre
M M COLONY GATE, HASANPURA JEEP STAND
Siwan, 841226

SKY Diagnostics Centre SKY Diagnostics Centre
Yusuf Market, Hospital Road
Siwan, 841226

Only lab in Hospital road, Siwan, Bihar which gives you exact / authentic report for all.

Physiotherapy-siwan. Physiotherapy-siwan.
Sri Sai MultiSpeciality Hospital ,Bangali Pakri Mor, Gaushala Road ,Siwan , Bihar
Siwan, 841226

Physical therapy (PT), also known as physiotherapy, is one of the allied health professions that, by using mechanical force and movements (bio-mechanics or kinesiology), manual therapy, exercise therapy, and electrotherapy, remediates impairments and prom

laxmi nurshing Home,siwan bihar laxmi nurshing Home,siwan bihar
Near Ander Dhala Siwan Bypass Road
Siwan, 841226

Best Heath care facility at affordable price and round o clock superior service.!

Dr Khwaja Ahtesham Ahmad Dr Khwaja Ahtesham Ahmad
Babunia Road
Siwan, 841226

General physician ,specially working for Diabetes and joints pain.ZAFAR LIFE LINE ,MADHUMEH KENDRA Babunia Road Janseva Lodge Siwan ZAK MULTISPECIALITY HOSPITAL HASAN PURA BUS STAND M M COLONY SIWAN.

Pathibhara Rgd Memorial Hospital ,khormabad ,siwan ,bihar Pathibhara Rgd Memorial Hospital ,khormabad ,siwan ,bihar
KHRMABAD NEAR LALIT BUS STAND
Siwan, 841226

best hospital in siwan

Sri Sai Hospital & Trauma Centre Siwan Sri Sai Hospital & Trauma Centre Siwan
GAUSHALA ROAD, PAKRI MORE
Siwan, 841226

Sri Sai Hospital & Trauma Centre is one of the most famous Bone related hospital in siwan, Bihar

Dr-Rajnish Priyadarshi Dentist Dr-Rajnish Priyadarshi Dentist
INDU DENTAL CLINIC
Siwan, 841226